देश/प्रदेश विदेश

लद्दाख: सीमा पर जारी तनाव के बीच लद्दाख में फिर हुई झड़प, भारतीय सेना ने दिया मुंहतोड़ जवाब*,

नई दिल्ली। लद्दाख सीमा पर भारत और चीन के बीच तनाव जारी है। इस तनाव को कम करने के लिए दोनों देशों के बीच सैन्य अफसर पर बातचीत चल रही है। इस बातचीत के बीच ही चीन ने फिर से अपनी घटिया करतूत दिखा दी है। बता दें कि लद्दाख में पैंगोंग भारत-चीन के सैनिकों के बीच फिर से झड़प होने की खबर आ रही है।इसको लेकर रक्षा मत्रालय ने इस संबंध एक बयान भी जारी किया है जिसमें कहा गया है चीन के सैनिकों ने भारतीय सैनिकों को उकसाया। भारतीय सैनिकों ने चीन की सेना को मुंहतोड़ जवाब दिया। बता दें कि पैंगोंग झील के पास झड़प के बाद चुशूल में भारत और चीन के सैन्य अधिकारियों के बीच बैठक जारी है। फिर से झड़प होने से तनाव को कम करने के लिए हो रही इन कोशिशों को झटक लग सकता है।जानकारी के मुताबिक यह झड़प 29-30 अगस्त की रात को हुई है। भारतीय सेना ने चीन की सैनिकों की घसपैठ का करारा जवाब दिया। यह झड़प ऐसे समय हुई है जब दोनों देशों के बीच सीमा पर तनाव को कम करने के लिए बातचीत का दौर जारी है।दोबारा झड़प को लेकर रक्षा मंत्रालय ने आज एक बयान जारी कर बताया कि पूर्वी लद्दाख में पिछले तीन महीने से भी अधिक समय से चले आ रहे गतिरोध के बीच चीनी सैनिकों ने 29 और 30 अगस्त की रात को पेगांग झील के दक्षिणी किनारे पर भड़काऊ हरकत की और यथास्थिति बदलने की कोशिश की। बयान में कहा गया है कि भारतीय सैनिकों ने चीन की नापाक हरकत को पहले ही भांप लिया और इसका करारा जवाब देते हुए इस कोशिश को विफल कर दिया। चीनी सैनिकों की यह हरकत दोनों देशों के बीच सैन्य और राजनयिक स्तर पर बातचीत में बनी सहमति का उल्लंघन है।

फिलहाल रक्षा मंत्रालय के बयान में यह स्पष्ट नहीं किया गया है कि दोनों पक्षों के सैनिकों के बीच झड़प हुई है या नहीं। इस कारर्वाई में किसी के हताहत होने की बात भी नहीं कही गयी है। बयान में कहा गया कि भारतीय सेना ने मौके पर अपनी स्थिति मजबूत करते हुए चीन के एकतरफा कारर्वाई में जमीन पर यथास्थिति बदलने के इरादों को विफल कर दिया है। मंत्रालय ने कहा कि भारतीय सेना शांति बनाये रखने और बातचीत के जरिये समाधान के प्रति वचनबद्ध है लेकिन सैनिक अपनी मातृभूमि की रक्षा के लिए भी पूरी तरह से द्दढ प्रतिज्ञ है।

बयान में कहा गया है कि मुद्दे के समाधान के लिए चुशूल में ब्रिगेड कमांडर स्तर की फ्लैग मीटिंग चल रही है।  उल्लेखनीय है कि चीनी सैनिकों ने गत 15 जून को भी गलवान घाटी में इसी तरह की हरकत की थी जिसके दौरान हुई हिंसक झड़प में दोनों पक्षों के सैनिक हताहत हुए थे। भारत के 20 सैनिक शहीद हुए थे और चीन के भी बड़ी संख्या में सैनिक हताहत हुए थे। दोनों देशों के बीच पूर्वी लद्दाख में पिछले तीन महीने से भी अधिक समय से वास्तविक नियंत्रण रेखा पर गतिरोध चल रहा है। इस ताजा घटना से क्षेत्र में एक बार फिर से तनाव पैदा हो गया है।

0Shares

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *