गाजीपुर न्यूज़ घटना/दुर्घटना शिक्षा

शिक्षक राजनीति के भीष्म पितामह के निधन पर शोक की लहर,

शिक्षक नेता बोले:ओमप्रकाश शर्मा के जाने से शिक्षा जगत को बड़ी क्षति

गाजीपुर।उत्तर प्रदेश की शिक्षक राजनीति के भीष्म पितामह कहे जाने वाले पूर्व एमएलसी ओमप्रकाश शर्मा के निधन की खबर से शिक्षा जगत में शोक की लहर दौड़ गई है।रविवार को एमएएच इंटर कॉलेज परिसर में शोक सभा का आयोजन कर उनकी आत्मा की शांति के लिए श्रद्धांजलि अर्पित किया गया।
प्रदेश कार्यकारिणी सदस्य चौधरी दिनेशचंद्र राय ने बताया कि ओम प्रकाश शर्मा वरिष्ठ एवं अनुभवी शिक्षक नेता के अलावा वेतन वितरण अधिनियम 1971 के जनक थे।शिक्षकों के मुद्दों पर कई बार ओमप्रकाश शर्मा का सरकार से टकराव भी हुआ।मगर हर बार वह सरकार पर भारी पड़े। शिक्षक हितों के लिए किए गए कार्यों को लेकर ओम प्रकाश शर्मा को ‘शिक्षकों का मसीहा’ भी कहा जाता था।शिक्षा जगत के इतिहास में इतना ईमानदार और मजबूत शिक्षक नेता होना बहुत मुश्किल है।कितनी भी बड़ी समस्या हुई जब भी ओमप्रकाश शर्मा से बात हुई तो उन्होंने सिर्फ एक ही बात कही हल हो जाएगी। घबराओ मत।वह शिक्षक कल्याण व शिक्षा जगत के लिए सदैव तत्पर रहे।उनके निधन से शिक्षा जगत को अपूरणीय क्षति हुई है।माध्यमिक शिक्षक संघ के जिलाध्यक्ष नारायण उपाध्याय ने श्रद्धांजलि अर्पित करते हुए कहा कि लगातार आठ बार ओम प्रकाश शर्मा एमएलसी चुने गए थे।श्री शर्मा जिले के शिक्षकों से सदैव जुड़े रहे और एक आवाज पर ही समस्याओं की लड़ाई लड़ने के लिए पहुंच जाते थे। शिक्षकों की समस्याओं के लिए हमेशा तत्पर रहते थे।इनके निधन से शिक्षा जगत को बहुत बड़ी क्षति हुई है।अन्य वक्ताओं ने उनके निधन पर शोक व्यक्त करते हुए कहा कि ओमप्रकाश शर्मा शिक्षक हितों के लिए अंतिम समय तक संघर्ष करते रहे।वो शिक्षक राजनीति का एक बड़ा नाम थे।जिले भर के शिक्षाविदों ने ओमप्रकाश शर्मा को श्रद्धांजलि अर्पित की है।श्रद्धांजलि कार्यक्रम में रामानुज सिंह,रामावतार यादव, सौरभ कुमार पाण्डेय,डॉ रेयाज अहमद,शिवकुमार सिंह,संतोष पाण्डेय,रविन्द्रनाथ तिवारी, राकेश पाण्डेय,शैलेन्द्र यादव,कमरुद्दीन,सूर्यप्रकाश राय, अखिलेश यादव,आजाद यादव, संजय पाण्डेय, आशुतोष पाण्डेय, अनिल दूबे आदि मौजूद रहे‌। अध्यक्षता जिलाध्यक्ष नारायण उपाध्याय तथा संचालन जिलामन्त्री राणाप्रताप सिंह ने किया।
रिपोर्ट : संवाददाता

0Shares

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *